Friday, July 18, 2014

तीर्थ

सौंधी हवा का झोंका

मेरे आँचल में 
फिसल कर आ गिरा।
     वक्त का एक मोहरा हो गया।
     और फिर
     फ़िज़ाओं की चादर पर बैठा
     हवाओं को चूमता
     आसमानों की सरहदों में कहीं

                     जा के थम गया।
एहसास को एक नई खोज मिल गयी।
एक नया वजूद                                       
मेरी देह से गुज़र गया।
               
  आसक्ति से अनासक्ति तक की दौड़,
    भोग से अभोग तक की चाह,
    जीवन से मृत्यु तक की                                
प्रवाह रेखा के बीच की
दूरियों को तय करती हुई मैं
इस खोने और पाने की होड़ को
अपने में विसर्जित करती गई।



न जाने वह चलते हुए                                  
कौन से कदम थे
        जो ज़मीन की उजड़ी कोख में
          हवा के झोंके को पनाह देते रहे।
            इन्हीं हवाओं के घुँघरुओं को
              अपने कदमों में पहन कर
              मैं जीवन रेखा की सतह पर
 चलती रही — चलती रही —

 कभी बुझती रही                                       
कभी जलती रही।


'via Blog this'