Thursday, March 13, 2014

उन्मुक्त

कलम ने उठकर

Drawing by Meena
चुपके से कोरे कागज़ से कुछ कहा
और मैं स्याही बनकर बह चली
           मधुर स्वछ्न्द गीत गुनगुनाती,
                     उड़ते पत्तों की नसों में लहलहाती।
उल्लसित जोशीले से
ये चल पड़े हवाओं पर
अपनी कहानियाँ लिखने।
           सितारों की धूल
                      इन्हें सहलाती रही।
कलम मन ही मन
             मुस्कुराती रही
                       गीत गाती रही।
-मीना चोपड़ा